हमारे बारे में

महाराष्ट्र अंधश्रध्दा निर्मूलन समिति  –

केरल के बी.प्रेमानंद डॉ. अब्राहम कोवूर के शिष्य थे। सन 1983 में आपने महाराष्ट्र में कई मीटिगें और सभाओं का आयोजन किया। महाराष्ट्र में कई मीटींगे और सभाओं का आयोजन किया  और चमत्कार करके दिखानेवाले लोगों की पोल खोलने के लिए जगह जगह पर चमत्कारों के प्रात्यक्षिक बतलाये। महाराष्ट्र की जनता के लिए यह सबकुथ नया था। उन्होंने ऐसे कार्यक्रमें में बहुत भीड़ की। इससे प्रेरणा पाकर कुछ उत्साही युवाओं ने अंधश्रध्दा निर्मूलन की चुनौती को स्वीकारा और महाराष्ट्र में कई स्थानों पर काम शुरु किया।

इन सभी युवाओं का संगठन बना के उनके प्रयत्नों में एकसूत्रता लाने के लिए सन 1989 में महाराष्ट्र अंधश्रध्दा निर्मूलन समिति (महाराष्ट्र अंनिस) की स्थापना की। इस संघटना का कार्य तेज गति से पूरे महाराष्ट्र में फैल गया। समिति ने कई प्रकार के नये-नये कार्यक्रम हाथ में लेकर अपने कार्य को बढ़ाया और इस संगठन को लोकप्रिय बनाया। समिति अब एक क्रांति बन गई है। सभी लोगों का प्रबोधन करने के उद्देश से अंनिस के कार्यकर्ताओं ने पूरे महाराष्ट्र में कई व्याख्यान दिये।